बरसात विच अस्सी पाणी बनके वग्ग जाना

बरसात विच अस्सी पाणी बनके वग्ग जाना
पतझड़ विच अस्सी फुल बनके झड़ जाना
की होया जे अस्सी तैनूं तंग करदे हां
इक दिन अस्सी तैनूं दस्से बिना ही टुर जाना