सदा हँसती रहो जैसे खिलते हैं फूल;


सदा हँसती रहो जैसे खिलते हैं फूल;
दुनियां के सब गम, तुम्हें जाये भूल;
चारो तरफ फैलाओ, खुशियों के गीत;
मुबारक हो आपको यह ईद।
ईद मिलाद-उन-नबी मुबारक।