Greetings Sms


मैं ही थाम सकूँ हाथ उनका
मुझ पे इतनी इबादत सी करदे
वो रह ना पाए एक पल भी हमारे बिना
आए खुदा तू मेरी महबूबा को मेरी आदत सी करदे
है अगर मोहब्बत,
तो ज़माने को बदल जा,
है अगर मोहब्बत,
तो ज़माने को बदल जा.
ताज महल हम भी बना सकते है,
उसके काबिल तो बन जा..
अतीत अपने आपको क्यूँ दोहराता है
मिलकर कोई फिर क्यूँ खो जाता है
ज़िंदगी भर साथ रहने का वादा क्यूँ किया
जब तुम्हे सिर्फ़ बिछड़ना ही आता है
समंदर को था गुरूर गहराई पर अपनी
आसमान को था गर्व उँचाई पर अपनी
शर्म से पानी पानी हो गये दोनो
जब उन्हे बताई हमने दोस्ती अपनी
मौसम को देखो कितना हसीन है,
ठंडी हवाएँ और भीगी ज़मीन है,
याद आ रही है आपकी कुछ बातें,
आप भी याद कर रहे होंगे इतना यकीन है.
होती है सुर्ख अगर आँखे, तो होने दे
जी भर के आज मुझे तू रोने दे
सोचा ना था बिन तेरे भी जीना पड़ेगा
खो गये सारे ख्वाब तो खोने दे
एक-एक करके रूठ रही है सारी खुशियाँ,
दर्द मानो हम पर मेहरबान है,
जाओ कह्दो मौत के फरिश्तो से,
अब से ज़िंदगी हमारे लिए अंजान है.
मोहब्बत भी अजीब सी होती है.
हर लम्हा उनकी कमी सी होती है..
चाहते हैं उनको इस कदर हम..
खरोंच उनको लगे तो तकलीफ़ हमको होती है
दोस्ती इम्तिहान नही प्यार मांगती है,
नज़र और कुछ नही दोस्त का दीदार मांगती है,
ज़िंदगी अपने लिए कुछ नही,
लेकिन आपके लिए दुआ हज़ार मांगती है.
जब कोई ज़माने में सहारा नज़र आया,
बस तू ही मुझे एक हमारा नज़र आया.
में तेरी दोस्ती में बैठा रहा ऐसे,
न तूफान नज़र आया न किनारा नज़र आया.